नागरिक चार्टर

हमारा उद्देश्य भयरहित और अधिक सुरक्षित, अण्डमान तथा निकोबार द्वीप समूह का है तथा इस लक्ष्य की ओर ईमानदारी तथा सत्यनिष्ठा से बढ़ना हमारा अभियान है । यह लक्ष्य विधि तथा भारतीय संविधान के अनुसरण में कार्य करते हुए तथा लोगों की प्रतिष्ठा तथा मानव अधिकार का सम्मान करते हुए कानून और व्यवस्था बनाए रख कर तथा अपराधों से निपटते हुए प्राप्त किया जा सकता है ।

हम अपनी भूमिका को व्यवसायिक, सेवा अभिमुखी तथा लोगों के साथ मित्रतापूर्ण बनाना चाहते है जो बाहरी दबाव से मुक्त तथा नियम एवं जनता के प्रति जवाब देह होंगे ।

अभियान

अण्डमान तथा निकोबार पुलिस सामुदायिक भागीदारी द्वारा लोगों की जान व माल की सुरक्षा, अपराध तथा भय के मामलों में कमी तथा जनता को एक सक्षम, कानून को मानने वाला तथा अनुक्रियाशील कानून का पालन करने वाला तंत्र देने का संकल्प लेते हैं ।

इस बात को स्वीकार करते हुए कि हमारी शक्ति उन लोगों से ही है जिनकी हम सेवा करते है, हम एक ऐसे संगठन की कल्पना करते हैं जो हमारे व्यवसाय तथा नागरिकों के बदलती हुई आवश्यकताओं को पूरा कर सकें । हमारी क्षमता के आधार पर ही हम इन तथ्यों को पूरा करने में सफल हो सकेंगे ।

    • नागरिकों के जीवन स्तर में सुधार के लिए प्रभावी कानून व व्यवस्था बनाए रखना ।
    • अपराध की रोकथाम एवं पता लगाना और अपराधियों को दण्डित करना ।
    • यातायात प्रबंधन तथा सड़कों पर सुरक्षा सुनिशित करना ।
    • गश्ती वाहनों (पुलिस नियंत्रण कक्ष) तथा अग्निशमन सेवा द्वारा आपातकालीन सहायता उपलब्ध कराना ।
    • समुदाय के साथ भरोसा एवं अनुरक्षणात्मक साझेदारी विकसित करना ।
    • प्रशिक्षण तथा क्षमता निर्माण को बढ़ावा देना ।
    • चुनिन्दा व्यक्तियों तथा प्रतिष्ठानों की विशेष सुरक्षा बंदोबस्त करना ।
    • आपदा प्रबंधन की तैयारियाँ

आप हमसे संपर्क कर सकते हैं।

    • अपराध तथा अपराधियों के संबंध में सूचना प्राप्त करने ।
    • अपराध अथवा संवेदनशील मामलों के संबंध में गुप्त सूचनाएँ साझा करने ।
    • यातायात समस्याओं तथा सुझाव प्रस्तुत करने हेतु ।
    • पुलिस कर्मियों/लोक अधिकारियों सहित शिकायत दर्ज कराने ।
    • षिकायतों के निवारण के लिए ।
    • चरित्र एवं पूर्ववृत्त का सत्यापन ।
    • वैवाहिक विवाद रिपोर्ट करने, महिलाओं के विरूद्ध हिंसा/अपराध तथा बच्चों का शोषण के खिलाफ दुव्र्यवहार रोकने के लिए ।
    • आग, विपत्ति, प्राकृतिक/मानव निर्मित आपदा की सूचना देने ।
    • शिकायतों को दर्ज करने के लिए हम http://police.andaman.gov.in/ एक वेबसाइट का भी सृजन किया हुआ है । इस सुविधा का उपयोग करने के लिए आपका स्वागत है
    • पुलिस मुख्यालय (सतर्कता सेल) में केन्द्रीय ग्राहक सेवा/षिकायत निवारण केन्द्र का भी स्थापना किया हुआ है, जहाँ पर आप अपना शिकायत दर्ज करवा सकते है ।
    • हम हमारी उपयोगकर्ताओं से अण्डमान तथा निकोबार पुलिस वेबसाइट http://police.andaman.gov.in/ की माध्यम से सुझाव का स्वागत करते है ।

हमारा वादा

जब कभी भी आप अण्डमान तथा निकोबार पुलिस के संपर्क में आए आपकी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उच्च कोटी के व्यवसायिक कुशलता की उम्मीद कर सकते हैं ।अण्डमान तथा निकोबार पुलिस द्वारा आचरण में निष्पक्षता के वादे के साथ- 24x7 व्यापक जन सुविधाएं उपलब्ध कराती है । यह हमारा दायित्व है कि, आपके सहयोग से, इन द्वीपों को सुरक्षित रखें ।

जब आप पुलिस थाना में किसी घटना की सूचना देने जाते हैं हम आपके मददगार एवं विनम्र रहेंगे;
हम तत्काल तथा सकारात्मक तरीके से आपकी शिकायत पर कार्यवाही करेंगे;
किसी अधिकारी आपकी समस्या पर कार्यवाही करने से पूर्व हम आपको यह बता देंगे कि इस कार्य में कितना समय लगेगा तथा अगर इसमें विलंब हो रहा होगा तो उस का कारण बताया जाएगा।
जब आप किसी अपराध के संबंध में मामला दर्ज करना चाहते हो ।
यदि आप किसी अपराध का शिकार है अथवा किसी अपराध का साक्षी है अथवा आपको किसी अपराध के संबंध में जानकारी है तो यह आपका अधिकार तथा दायित्व है कि इसकी सूचना पुलिस को दें;
स्थान अथवा अधिकार क्षेत्र को ध्यान दिए बिना हम शिकायत दर्ज करेंगे;
आपके द्वारा दी गई सूचना के आधार पर हम प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करेंगे तथा इसकी एक प्रति निशुल्क आपको दिया जाएगा;
हमारे पास दर्ज सभी अपराध के संबंध में हम समय पर, व्यावसायिक, स्वतंत्र तथा निशपक्ष तरीके से अन्वेषण करेंगे;
हम 18 वर्ष से कम आयु के किसी बच्चे, वरिष्ठ नागरिकों तथा महिलाओं अथवा बीमार व्यक्तियों को थाना में तलब नहीं करेंगे;

जब आप यौन शोषण के शिकार हों

ऐसे शिकायतों की संवेदनशीलता को हम समझते हैं तथा हम यह सुनिशिचत करेंगे कि इन मामलों को अति संवेदनशीलता तथा भद्रता से निपटारा किया जाए । यौन शोषण के पीड़ित पर विशेष ध्यान और विचार किया जाएगा मुइस प्रकार के सभी पीड़िता को महिला पुलिस अधिकारी द्वारा ही देखा जाएगा इस अपराध को बिना किसी विलम्ब के तत्काल दर्ज किया जाएगा पीड़िता के मानसिक तथा शरीरिक स्थिति को तथा विशेष रूप से शालीनता को ध्यान में रखकर महिला चिकित्सा अधिकारी द्वारा पीड़िता की चिकित्सा जाँच की जाएगी ।

जब आप यौन शोषण के शिकार हों

  • अपराध तथा अपराधियों के संबंध में सूचना प्राप्त करने ।
  • अपराध अथवा संवेदनशील मामलों के संबंध में गुप्त सूचनाएँ साझा करने ।
  • यातायात समस्याओं तथा सुझाव प्रस्तुत करने हेतु ।
  • पुलिस कर्मियों/लोक अधिकारियों सहित शिकायत दर्ज कराने ।
  • शिकायतों के निवारण के लिए ।
  • चरित्र एवं पूर्ववृत्त का सत्यापन ।
  • वैवाहिक विवाद रिपोर्ट करने, महिलाओं के विरूद्ध हिंसा/अपराध तथा बच्चों का शोषण के खिलाफ दुव्र्यवहार रोकने के लिए ।
  • आग, विपत्ति, प्राकृतिक/मानव निर्मित आपदा की सूचना देने ।
  • शिकायतों को दर्ज करने के लिए हम http://db.and.nic.in/policehelpdesk/ एक वेबसाइट का भी सृजन किया हुआ है । इस सुविधा का उपयोग करने के लिए आपका स्वागत है
  • पुलिस मुख्यालय (सतर्कता सेल) में केन्द्रीय ग्राहक सेवा/शिकायत निवारण केन्द्र का भी स्थापना किया हुआ है, जहाँ पर आप अपना षिकायत दर्ज करवा सकते है ।
  • हम हमारी उपयोगकर्ताओं से अण्डमान तथा निकोबार पुलिस वेबसाइट http://db.and.nic.in/policehelpdesk/ की माध्यम से सुझाव का स्वागत करते है ।

जब आप घरेलू हिंसा के शिकार हों

  • तत्काल सहायता के लिए आप महिला सहायता दूरभाष संख्या 1091/100 से संपर्क कर सकते हैं;
  • लम्बी अवधि के परामर्ष सेवा तथा सहायता के लिए प्रत्येक पुलिस थाना में स्थापित महिला हेल्प डेस्क या पोर्ट ब्लेयर में महिला सेल से संपर्क कर सकते हैं । परामर्ष के संबंध में यदि परामर्षदाता की सेवा वहाँ उपलब्ध न हो तो आपको किसी कुशल परामर्षदाता के पास भेजा जाएगा । विधि सहायता के लिए, यदि आप चाहे तो, हम आपके मामले को संबंधित न्यायिक सेवा प्राधिकरण के पास भेज देंगे।
  • यदि घरेलू हिंसा अधिनियम के अंतर्गत लगाए गए प्रतिबंधात्मक आदेशो का उल्लंघन होता है तो, हम नियमानुसार कार्रवाई करेंगे।

जब आपको गिरफ्तार किया गया हों ।

  • सूचना मिलते ही तत्काल हम यातायात दुर्घटना स्थल पर पहुंच जाएंगे ।
  • हम घायल व्यक्ति को तत्काल प्रथम उपचार तथा चिकित्सा सहायता पहुँचाएंगे ।
  • बीमा दावा करने के लिए हम 7 दिनों के भीतर दस्तावेजों की प्रतियाँ उपलब्ध कराएंगे।
  • हम सामान्यता 30 दिनों के भीतर यातायात दुर्घटना मामलों की जाँच पूरी कर लेंगे ।
  • यदि आप किसी यातायात नियम के उल्लंघन करते हुए पकड़े जाते हैं, जिसमें कि जुर्माना हो सकता है, आपके पास यह विकल्प उपलब्ध होगा कि आप मौके पर जुर्माना जमा करें अथवा न्यायालय में इसका विरोध कर सकते हैं ।
  • यदि मामला पुलिस द्वारा जुर्माना लगा कर नहीं निपटाया जा सकता है, जैसे कि नशे की हालत में गाड़ी चलना, तो ऐसी परिस्थिति में मोटर वाहन अधिनियम के प्रावधानों के अंतर्गत गिरफ्तारी, चिकित्सा जाँच इत्यादि सहित निपटाया जाएगा ।
  • हम ऐसे मुख्य स्थानों पर यातायात नियम करते हैं जहाँ पर यातायात रूकावटें अथवा भारी यातायात की आवाजाही हो ।

आपदा की स्थिति में जब आपको बचाव/राहत की आवष्यकता हो

  • आग लगने अथवा बाढ़ आने पर हम तत्काल बचाव तथा राहत कार्य आरंभ करेंगे ।
  • हम अग्निशमन/स्वास्थ्य तथा अन्य विभागों से मिलकर प्रभावित लोगों के लिए एम्ब्युलेन्स, चिकित्सा सुविधा तथा भोजन की व्यवस्था करेंगे ।

जब आप भारी संख्या में लोगों को इकट्ठा करते हैं

  • यदि आप संबंधित प्राधिकारी से जारी अनापत्ति प्रमाण पत्र, अपेक्षित अनुमति प्राप्त करते हैं तो हम मेलों, त्यौहारों, सार्वजनिक कार्यक्रमों में भीड़ को नियंत्रित करने में आपकी सहायता करेंगे ।

जब आप शिकायत लेकर पुलिस के पास जाते हैं ।

  • सिविल विवादों को सुलझाने, ऋण स्वरूप दिए गए राशि को वापस लेने अथवा ऐसे किसी मामले को जो नागरिक कानून के अंतर्गत आते है, हम उन मामलों पर कार्रवाई नहीं करते हैं ।
  • किसी संज्ञेय अपराध को रोकने के लिए हम दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 149 के अंतर्गत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए जाँच करते हैं ।

जब आप पुलिस द्वारा किसी अपराधिक मामलें में गिरफ्तार होते हों।

  • यदि आपको किसी पुलिस अधिकारी द्वारा गिरफ्तार किया जाता है तो आपके यह जानने का अधिकार होगा कि आपको किस कारण गिरफ्तार किया गया है तथा आप गिरफ्तार करने वाले अधिकारी द्वारा तैयार गिरफ्तारी मेमो प्राप्त कर सकते हैं । गिरफ्तारी मेमो में आपका, आपके परिजन, मित्र के हस्ताक्षर होंगे ।
  • गिरफ्तारी के बाद, आपके आगमन/प्रस्थान की सूचना संबंधित पुलिस थाना/चैकी के रोजनामचा में दर्ज किया जाएगा । आपके पास यह अधिकार होगा कि आप अपने गिरफ्तारी के तत्काल बाद अपने मित्र/परिजन/अधिवक्ता को इसकी सूचना दें जिन्हें आपकी कल्याण में रूचि हो । यदि वह व्यक्ति किसी अन्य जिला में रहते हो, तो टेलीफोन अथवा स्थानीय कानूनी सहायता कक्ष के माध्यम से सूचित कर सकते है ।
  • गिरफ्तार व्यक्ति को जाँच के दौरान अपने अधिवक्ता से मिलने का अधिकार होगा ।
  • गिरफ्तारी के बाद जामा तलाशी के मामले में आपके पास यह अधिकार होगा कि आप तलाशी करने वाले अधिकारी अथवा जाँच अधिकारी से जामा तलाशी ज्ञापन की मांग करें । आपके पास से जब्त वस्तुओं का विवरण जब्ती मेमो में दिया जाना चाहिए, जिसे दो स्वतंत्र गवाहों की उपस्थिति में तैयार किया जाएगा तथा उसपर उनके हस्ताक्षर होंगे । आपके पास यह अधिकार होगा कि आप उसकी एक प्रति अपने पास रख सकें ।
  • गिरफ्तारी के बाद आपका यह अधिकार होगा कि किसी सरकारी चिकित्सा अधिकारी से तत्काल आपका चिकित्सा जाँच कराया जाए तथा उसके बाद जब तक कि आप पुलिस हिरासत में हो प्रत्येक 48 घंटे में काराया जाए ।

जब आपको लाइसेंस, परमिट, सत्यापन तथा प्रमाणपत्रों की आवष्यकता हो

  • निम्नलिखित समय सारिणी के अनुसार हम जिला प्रशासन को लाइसेंस, परमिट तथा दस्तावेजों के लिए रिपोर्ट देते हैं:-
क्र.स लइसेंस / दस्तावेज/परमिट अधिकारी जिनसे संपर्क करें उत्तर का समय
यदि उत्तर प्राप्त नही होता तो किसे संपर्क करें
1. प्रथम सूचना रिपोर्ट/एनसीएफआईआर की प्रति थानाध्यक्ष पंजीकरण के समय से 24 घंटे उप प्रभागीय पुलिस अधिकारी
2. पासपोर्ट सत्यापन थानाध्यक्ष और विशेष शाखा के क्षेत्र अमला 14 दिन पुलिस उप अधीक्षक (के.अ.वि.) और उप प्रभागीय पुलिस अधिकारी
3.  लाउड स्पीकर की अनुमति उप प्रभागीय पुलिस अधिकारी 24 घंटे पुलिस अधीक्षक
4. शोभा यात्रा परमिट पुलिस अधीक्षक,उप प्रभागीय पुलिस अधिकारी 24 घंटे पुलिस अधीक्षक
5. पटाखों/सशस्त्र/विस्फोटक/आबकारी लाइसेंस के लिए पुलिस रिपोर्ट मुख्य अग्निषम अधिकारी/उप प्रभागीय पुलिस अधिकारी 20 दिन पुलिस अधीक्षक
6. पुलिस अनुमति प्रमाणपत्र पुलिस उप अधीक्षक (विषेष षाखा ) 15 दिन पुलिस अधीक्षक
7. बार सह रेस्तरां, स्कूल भवन, पटाखों के लिए अग्निशमन अनापत्ति प्रमाण पत्र मुख्य अग्निशमन अधिकारी 15 दिन पुलिस अधीक्षक (अग्निषमन)

नागरिकों के दायित्व व उनसे अपेक्षा

सभी नागरिकों पर यह बाध्यता है कि वह उस पुलिस अधिकारी की सहायता करें जो किसी व्यक्ति को शांति बनाए रखने तथा सरकारी संपत्ति को क्षति पहुँचाने से बचाने के लिए गिरफ्तार करने अथवा विधिवत गिरफ्तारी से बचने के लिए छिपे व्यक्तियों हो को गिरफ्तार करने में आपसे सहायता मांगे । (दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 37) ।

किसी व्यक्ति को किसी गंभीर अपराध को किए जाने अथवा इरादे की जानकारी हो, तो उसका यह दायित्व है कि वह इसकी सूचना तत्काल नजदीकी पुलिस थाना में दें (दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 37)। इन भारतीय दण्ड संहिता अपराध में निम्नलिखित शामिल हैः-

  1. अपराध रोकने की पहल करें । एक निजी नागरिक भी किसी को गिरफ्तार कर सकता है अथवा करा सकता है यदि उनकी उपस्थिति में कोई गैर जमानती या जमानती अपराध उसने किया हो अथवा कोई घोषित अपराधी उसके सामने आ जाता है (दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 43) ।
  2. सार्वजनिक संपत्ति की रक्षा करें तथा ऐसे कोई कार्य न करें जो सार्वजनिक संपत्ति या स्थानों को क्षति पहुंचाए अथवा गंदा करें ।
  3. सड़क सुरक्षा को बढ़ाने के लिए सभी सड़क उपयोगकर्ता को निर्देशित किया जाना चाहिए तथा यातायात पुलिस कर्मियों के वैध दिशानिर्देशा तथा सुझावों तथा यातायात मानदण्डों व नियमों का पालन करना चाहिए ।
  4. सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्तियों को नजदीकी अस्पताल ले जाकर तथा पुलिस को सूचित कर उसकी सहायता करें । यदि, चाहे तो किसी को उस मामले मे गवाह नहीं बनाया जाएगा, न ही कोई असुविधा होने दिया जाएगा ।
  5. सामुदायिक पुलिस व्यवस्था की पहल को पूरे मन से समर्थन दिया जाना चाहिए । सुरक्षा, विशेषकर चोरी जैसे अपराधों पर अंकुश लगाया जा सकता है यदि स्थानीय समुदाय आसपास तथा एकल मकानों/स्थापनाओं की भौतिक सुरक्षा बंदोबस्त को सुधारने की पहल करें तथा पर्याप्त संख्या में पहरेदार तैनात करें ।

किसी व्यक्ति द्वारा किसी प्रकार की जानकारी देने में चूक करने अथवा गलत जानकारी देने पर उन्हें भारतीय दण्ड संहिता की क्रमश : धारा 176 तथा 177 के अंतर्गत दण्डित किया जा सकता है।

अंत में पूरी क्षमता से जनता की सेवा करना हमेशा से ही हमारा लक्ष्य रहेगा तथा हम जनता से इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सहयोग की अपेक्षा रखते हैं ।

पीड़ितों के अधिकार/अपराधों की शिकायत

सभी नागरिकों पर यह बाध्यता है कि वह उस पुलिस अधिकारी की सहायता करें जो किसी व्यक्ति को शांति बनाए रखने तथा सरकारी संपत्ति को क्षति पहुँचाने से बचाने के लिए गिरफ्तार करने अथवा विधिवत गिरफ्तारी से बचने के लिए छिपे व्यक्ति को गिरफ्तार करने में आपसे सहायता मांगे । (दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 37) ।

जब भी कोई संज्ञेय अपराध (जहाँ पर पुलिस अधिकारी वारंट के बिना अपराधी को गिरफ्तार कर सकता है) को अंजाम दिया जाता है ।

  1. पीड़ित व्यक्ति अथवा कोई दूसरा व्यक्ति पुलिस थाना के प्रभारी अधिकारी के पास मौखिक अथवा लिखित शिकायत के माध्यम से प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करा सकता है ।
  2. संज्ञेय अपराध के मामले में यदि शिकायत दर्ज करने से मना किया जाता है, तो शिकायतकर्ता अपनी शिकायत डाक द्वारा पुलिस अधीक्षक को भेज सकता है जो जाँच की प्रक्रिया आरंभ करेंगे ।
  3. सूचना देने वाले को प्रथम सूचना रिपोर्ट की प्रति निशुल्क दी जाएगी ।
  4. प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करने के उपरांत, अन्वेषण आरंभ किया जाएगा ।
  5. इसके उपरांत निष्कर्ष को दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 173 के अंतर्गत न्यायालय को प्रेषित करेगा तथा इसकी सूचना शिकायतकर्ता को दे दी जाएगी ।
  6. जब पर्याप्त सबूत एकत्र हो जाते हैं, तो मामले को सुनवाई के लिए न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया जाता है ।
  7. यदि पर्याप्त सबूत उपलब्ध नहीं होते हैं तो मामले को न पता लगाने योग्य के रूप में भेज दिया जाता है ।
  8. जब यह पाया जाता है कि कोई अपराध नहीं किया गया तो उसे रद्द करने के लिए भेज दिया जाता है ।
  9. जब मामले को न पता लगाने योग्य अथवा रद्द करने के लिए भेजा जाता है, तो शिकायतकर्ता अपने मामले को न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत कर सकता है, जो पुलिस द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट को स्वीकार करने से पहले षिकायतकर्ता को सुनता है ।
  10. दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 167 (1) में विहित है कि प्रत्येक अन्वेषण को अनावष्यक विलम्ब किए बिना पूरा किया जाए, हालांकि जाँच पूरा करने के लिए कोई तय समय सीमा निर्धारित नहीं किया गया है ।
  11. यदि शिकायतकर्ता अथवा पीड़ित, को यह शिकायत है कि मामलें की जाँच सही प्रकार से नही किया जा रहा है अथवा प्रगति धीमी है, तो वे वरिष्ठ अधिकारी के समक्ष शिकायत कर सकता है जो आगे कि जाँच सहित उचित आदेष जारी कर सकते हैं ।
  12. यदि कोई व्यक्ति षिकायत दर्ज करने के लिए पुलिस थाना तक नहीं जा सकता है तो वह अपनी षिकायत डाक द्वारा भेज सकता है ।
  13. संज्ञेय अपराध होने अथवा इसकी संभावना होने पर कोई भी व्यक्ति पुलिस नियंत्रण कक्ष के 24 घंटे चलने वाले टोल फ्री नम्बर 100 में इसकी सूचना दे सकता है। उचित कानूनी कार्रवाई करने के लिए तत्काल स्थानीय पुलिस अधिकारियों तथा पुलिस नियंत्रण कक्ष वाहन को घटना स्थल भेजने की व्यवस्था है ।

चार्टड के तहत प्रदान की जाने वाली सेवाओं में लगातार संशोधित और सुधार करने के लिए हम वचनबद्ध हैं: हम सब इस चार्टर को सफल बनाने में सहयोग प्रदान करें ।

दूरभाष संख्याओं की सूची

एसटीडी कोड: 03192 (दक्षिणी द्वीप समूह के लिए) 03193

क्रम सं. नाम और पद कार्यालय आवास
ईमेल
1. श्रीमती नुजहत हसन, भा.पु.से.
पुलिस महानिदेशक
230216 230346 यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.
2.  श्रीमती शालिनी सिंह, भा.पु.से. पुलिस महानिरीक्षक

232244

233307

233291

igpयह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.

3. श्रीमती उर्विजा गोयल, भा.पु.से. दक्षिण जिला अण्डमान/यातायात/सुरक्षा

236641

233154(Security)

 228055

यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.

यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.

4. श्री परविन्दर सिंह, भा.पु.से. पुलिस अधीक्षक मुख्यालय/ पुलिस मेरिन बल/सुरक्षा/ मानव संसाधन प्रबंधन और कल्याण के साथ पुलिस परियोजना संचार

230841

  यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.
5. श्री इनगीत प्रताप सिंह,भा.पु.से. पु.अ. जिला मध्योत्तर अण्डमान 273344 273322
यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.
6. श्री मनोज सी, पु.अ निकोबार जिला 265223 265233 यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.
7. श्री दीपक यादव, भा.पु.से. अ.अ.वि /अग्निशमन सेवा/संचार 233307   यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.
8. श्री खिलाड़ी राम मीणा, पुलिस उप अधीक्षक(पु.म.)/पु.उ.अ.(स्थापना), पु.म.परि. और रसद भण्डार, पुलिस लाईन 232673 - यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.
9. श्री मनोज कुमार मीना,उ.प्र.पु.अ. हैवलॉक 282249 230217
232330
 यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.
10. श्री अजय कुमार राय पु.उ.अ.(जिला) दक्षिण अण्डमान जिला, पु.उ.अ(यातायात)/सुरक्षा और पु.उ.अ. पुलिस मेरिन बल 234721    यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.
11. श्री जोर्ज लालू, उ.प्र.पु.अ./रंगत 274646 274046 -
12. श्री शुकान्त सैयलजा, बल्लब, दानिप्स, उ.प्र.पु.अ./डिग्लीपुर 272243 271012 -
13. श्री मोहम्मद उम्मर
उ.प्र.पु.अ./बम्बुफ्लाट
258019 -  यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.
14. श्री शौकत हुसैन, मुख्य अग्निशमन अधिकारी 232697  -  यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.
15. श्री निशांत गुप्ता, उ.प्र.पु.अ./दक्षिण अण्डमान 232405 231279  यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.
16. श्री बी सैगल, पु.उ.अ. अ.अ.वि./भ्रष्टाचार निरीध

242198

-

यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.

 

17. श्री संपत कुमार
उ.प्र.पु.अ. कार निकोबार/ उ.प्र.पु.अ. कैम्पबल बे
265966 230810
235339
 
18. श्री एम.ए नौशाद,
उ.प्र.पु.अ. कैम्पबल बे
     यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.
19. पुलिस नियंत्रण कक्ष 100 Toll free Helpline  
20. अग्निशमन नियंत्रण कक्ष 101  
21. महिला सहायता 1091  
22. तटीय सुरक्षा सहायता 1093  

दूरभाष संख्या. सूची

एस.टी.कोड: 03192, (दक्षिण समूह) 03193

क्र.सं. पुलिस थाना/सहायता थानाध्यक्ष का नाम
कार्यालय
1. पुलिस थाना केन्द्रीय अपराध शाखा श्री पी.के अब्दुल अरीफ, निरीक्षक 232586
2. पुलिस थाना अबरडीन श्री अरूण कुमार सिंह, निरीक्षक 232400
3 पुलिस थाना चाथम श्री अब्दुल रहमान, उप निरीक्षक 232232
4. पुलिस थाना पहाड़गाँव श्री साहिल समसुदीन, निरीक्षक 250525
5. पुलिस थाना हम्फ्रीगंज श्री के. बिनोज, निरीक्षक 287590
6. पुलिस थाना हैवलॉक श्री राहुल, निरीक्षक 282405
7. पुलिस थाना नील आइलैंड श्री के इंलोगवन, उप निरीक्षक 282602
8. पुलिस थाना हटबे श्री सवरन्न, उप निरीक्षक 284208
9. पुलिस थाना ओग्राब्राज श्रमती शाबाना हनीफ, निरीक्षक 224934
10. पुलिस थाना बम्बूफ्लाट श्री गिरिश कुमार, उप निरीक्षक 258411
11. पुलिस थाना बाराटांग श्री पी.मौयद्वीन कुटटी, उप निरीक्षक 279503
12. पुलिस थाना कदमतला श्री जी. सुरेश कुमार, उप निरीक्षक 267055
13. पुलिस थाना रंगत श्रीमती टी हेेमावती, उप निरीक्षक 274239
14. पुलिस थाना बिल्लीग्राउण्ड श्री रंगाराज, उप निरीक्षक 270523
15. पुलिस थाना मायाबंदर श्री अदित्य नारायण,निरीक्षक 273203
16. पुलिस थाना कालीघाट श्री राकेश सिंह, उप निरीक्षक 278149
17. पुलिस थाना डिगलीपुर श्री वी.पी मिश्रा, उप निरीक्षक 272223
18. पुलिस थाना कार निकोबार श्री संजय कुमार, निरीक्षक 265242
19. पुलिस थाना ननकौरी श्री ए उस्समान, उप निरीक्षक 263464
20. पुलिस थाना तेरेसा श्री रंगास्वामी, उप निरीक्षक 268235
21. पुलिस थाना कच्छल श्री जगदीश प्रसाद, उप निरीक्षक 295251
22. पुलिस थाना कैंपबेल बे श्री एस विशाल, निरीक्षक 264210
23. यातायात शाखा निरीक्षक, यातायात 243812
24. सत्यापन के लिए निरीक्षक, विशेष शाखा 242198
25. घुसपैठिया, आपदा में फंसे इत्यादि लोगों के संबंध में जानकारी निरीक्षक, पुलिस मेरीन बल 231737
26. मेरिन पुलिस नियंत्रण कक्ष   239247
27.

संकट में महिलाएं

  1091,1144 or 18003451144
28. एम्बुलेंस   102
29. हवाई अड्डा   272223
30. बस अड्डा निदेशक (परिवहन) 230225
31. विद्युतमुख्य अभियंता (विद्युत) 232404
32. पोर्ट ब्लेयर नगरपालिका परिषद नियंत्रण कक्ष   245798
33. राज्य नियंत्रण कक्ष   1077
234287
34. जिला नियंत्रण कक्ष   1070
238881
35. तट रक्षक (खोज एवं बचाव)   1554
36. जहाजरानी   245555
37. शिशु सहायता   1098
top