अण्डमान तथा निकोबार पुलिस 16.01.53 से कार्य करना आरंभ किया जब श्री एन. एफ. सन्तूक, भा.पु.से. प्रथम पुलिस अधीक्षक के रूप में कार्यभार संभाला था । अण्डमान तथा निकोबार पुलिस मैनुअल वर्ष 1963 से लागू हुआ जिसमें पुलिस प्रशासन के प्रयोजन और दैनिक कार्यों और जिसमें अन्य बातों के अतिरिक्त, बल में विभिन्न पदो के नियुक्ति तथा प्रशिक्षण आवष्यक्ताओं को विनिर्दिष्ट किया गया है। अतः बीतते समय और आवष्यक्ताओ के साथ विद्यमान बल से बाह्य और आंतरिक क्षेत्र के सक्षम प्रषिक्षकों को लेकर पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय आस्तित्व में आया और पोर्ट ब्लेयर के पुलिस लाइन में जो भी आधारभूत संरचना उपलब्ध था, से कार्य करना आरम्भ कर दिया। तब से अण्डमान तथा निकोबार पुलिस के रंगरूटों को पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय में मूलभूत प्रषिक्षण दे रहा है । अब तक पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय से 69 रंगरूट बैचों का प्रशिक्षण पूरा किया है । जुलाई 2010 में इसके अपने स्वतंत्र भवन के साथ पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय को प्रातरापुर में स्थानांतरित किया गया और दिनांक 13.07.2010 से कार्य करना आरम्भ कर दिया।

एकीकृत प्रशिक्षण परिसर की स्थापना  

प्रशिक्षण सुविधाओं में सुधार लाने के लिए रंगरूटों के साथ समय-समय पर व्यावसयिक प्रशिक्षण मे भाग लेने वाले सेवाकालिन कर्मियों के लाभार्थ पुलिस लाइन में एकीकृत प्रशिक्षण परिसर जिसमें कम्प्यूटर प्रयोगशाला, एक सत्र में 15 प्रशिक्षणार्थियों को बैठाने, 50 प्रतिभागियों की बैठने की क्षमता वाले व्याख्यान कक्ष और 25 व्यक्तियों की क्षमता वाले पुस्तकालय के साथ स्थापना की गई । इस पुस्तकालय में कानून और पुलिस के कार्यों से संबंधित अन्य विषय के कुल 3066 पुस्तकें उपलब्ध है । कम्प्यूटर प्रयोगशाला में पुलिस अधिकारियों और सिपाहियों को मूलभूत प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए अपेक्षित कम्पयूटर प्रदान किया हुआ है ।

सभी पुलिस अधिकारियों को कम्प्यूटर प्रशिक्षण

जैसा हम जानते है कि अपराध और अन्वेषण सहित पुलिस बल के दैनिक कार्यों में सूचना और प्रौद्योगिकी का महत्व बहुत अधिक हो गया है । यह निर्णय लिया गया है कि अण्डमान तथा निकोबार पुलिस बल के प्रत्येक सेवारत कर्मियों को कम्प्यूटर का मूलभूत शिक्षा दिया जाएगा और इसलिए कम्प्यूटर प्रशिक्षण को रंगरूट के पाठ्यक्रम में शामिल किया गया ।

संषोधित मूलभूत प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के कुछ विशेष सुविधाओं में निम्नलिखित शामिल है -

पुलिसकर्मी और उनके परिवारजनों के लिए पुलिस प्रशिक्षण में निम्नलिखित सुविधाएं प्रदान की जा रही है:

  • पुलिस थाना स्तरीय कार्यों का व्यावहारिक विवरण सुनिष्चित करने के लिए पुलिस थानों को सम्बद्ध करना ।
  • अतिथि व्याख्यान और बाह्य ज्ञान स्त्रोत व्यक्ति/विशेषज्ञों के साथ परस्पर संवाद सत्र ।
  • मानव अधिकार, लिंग संवेदीकरण और मीडिया संबंध जैसे समसामयिक विषयों पर विशेष मोड्यूल।
  • अनिवार्य कम्प्यूटर ज्ञान ।
  • मनोरंजनात्मक और व्यावसायिक दोनों प्रकार के फिल्म प्रदर्शन ।
  • न्यायालय, अस्पताल, एफपीबी, फिल्लौर, सीएफएसएल, सीडीटीएस, आईएसपीडब्ल्यू आदि जैसे महत्वपूर्ण स्थापनाओं/संस्थानों का अध्ययन भ्रमण ।
  • अनिवार्य मोटर चालन ।
  • ध्यान, योग और आंतरिक व्यक्तित्व द्वन्द प्रबंधन ।

प्रशिक्षणार्थियों से नियमित और सुव्यवस्थित प्रतिपुष्टि (फीडबैक) लेने पर प्रशिक्षण समयसारणी सही और प्रतिक्रियाषील बनता है । 

प्रशिक्षणार्थियों के ज्ञान बढाने और उनके व्यावसायिक कौशल में सुधार लाने के लिए विविध विशिष्ट क्षेत्र के विशेषज्ञ अर्थात् न्यायालयिक विज्ञान प्रयोगशाला, वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों, समाज के महत्वपूर्ण व्यक्तियों/प्रतिनिधियों को विशेषज्ञ के रूप में आमंत्रित किए जाते हैं । पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय में समय-समय पर निरीक्षक पद तक के सभी अधिकारियों के लिए मानव अधिकार संवेदनशीलता, हिरासत में हिंसा, साइबर अपराध, बैंक छल, एटीएम कार्ड से संबंधित अपराध, डीएनए प्रोफाइलिंग, एचआईवी/एड्स और कानून में अद्यतन संशोधन आदि जैसे विविध विषयों पर विशेष कार्यालय/मोड्यूल का आयोजन किया जाता है ।

top