IRBn

  • भारत आरक्षित वाहिनी, अण्डमान तथा निकोबार द्वीपसमूह (आईआरबीएन) की स्थापना वर्श 2002 में केन्द्रीय अर्द्ध सैनिक बल के प्रतिरूप में की गई तथा विद्रोह, आक्रामकता और आतंकवाद से निपटने के लिए प्रशिक्षित किया गया ।
  • इस समय बटालियन में सभी श्रेणी सहित 834 कर्मचारी है ।
  • बटालियन द्वीपसमूह में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति और आंतरिक सुरक्षा बनाए रखने में सिविल पुलिस की सहायता करता है ।
  • इसके अलावा, भारत आरक्षित वाहिनी के जवानों को सामरिक रूप से महत्वपूर्ण स्थान जैसे नारकोंडम, इस्ट आइलैंड, इन्टरव्यू आईलैंड, लुइस इनलेट बे, तिलांग-चांग, माकाचुवा और अफ्रा बे के प्रहरी चौकी में भी तैनाती की जाती है ताकि विदेशी नागरिकों को हमारे प्रादेशिक सीमा में घुसपैठ को रोका जा सकें ।
  • भारत आरक्षित वाहिनी नियमित रूप से घुसपैठ को रोकने के अभियान के संचालन में सिविल पुलिस की मदद करता है ।
  • भारत आरक्षित वाहिनी के कर्मचारियों को पोर्ट ब्लेयर के महत्वपूर्ण संस्थापनों में तैनात किया जाता है ।
  • इस बटालियन में विशेष बलों की ड्यूटी करने के लिए प्रशिक्षित और प्रेरित जवानों की काफी बडा अंश है।

    विशेष सामथ्‍​र्य में निम्नलिखित शामिल हैः-

  • प्रतिकूल वातावरण में सैनिक सर्वेक्षण और निगरानी ।
  • प्रशिक्षित कमांडो के माध्यम से आक्रामक कार्रवाई ।
  • बम का पता लगाना और उसका निपटान सहित आतंकवाद विरोधी कार्य
  • तोड़फोड़ तथा विनाश ।
  • बंधको को छुड़ाना।
  • आपदा प्रबंधन ।
  • भारत आरक्षित वाहिनी कर्मी खेल और सांस्कृतिक कार्यकलाप के क्षेत्र में भी अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करते हैं ।
  • इस बटालियन द्वारा समय-समय पर प्रायः सभी आबादी वाले द्वीपों में जन मनोरंजन और स्व सुरक्षा से संबंधित कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है ।
top