पुलिस समुदाय के लिए कानून प्रवर्तन सेवा प्रदान करने का कार्य करता है । पारंपरिक पुलिस माॅडल अधिकतर प्रतिक्रियाशील होती है जैसे पुलिस की सेवा के लिए उन्हें बुलाने पर ही प्रतिक्रिया देती है । प्रायः किसी नागरिक का पुलिस के साथ संपर्क होना एक आकस्मिक प्रक्रिया के अंतर्गेत आता है जब उन्हें टेलिफोन द्वारा 100 नम्बर पर/पुलिस थाना पर या अन्य अपराध के बारे में सूचना मिलती है। और पुलिस तभी सक्रिय होती है। यहाँ कानून प्रवर्तन का पारंपरिक प्रतिक्रियाशील माॅडल है ।

हाल ही में पुलिस के कार्यशैली में काफी परिवर्तन आया है । अब समुदाय को सेवा प्रदान करने में पुलिस पहले ही सक्रिय हो जाती है । आज पुलिस और नागरिक एक साथ मिलकर कार्य करते है और मिलकर कई मामलों को सुलझाते है । सामुदायिक पुलिस व्यवस्था की दिशा में अण्डमान तथा निकोबार पुलिस नियमित सिटिज़न कमेटी और पुलिस थाना फिशरमैन वाचग्रुप मिटिंग पुलिस थाना, उ.प्र.पु.अ. तथा पुलिस अधीक्षक स्तर पर आयोजन करती है ।

इसके अतिरिक्त अण्डमान तथा निकोबार पुलिस द्वारा निम्नलिखित कार्य भी किए गए -

  • अण्डमान तथा निकोबार पुलिस ने दिनांक 16 अगस्त 2013 को साइकिल रैली का आयोजन किया जिसमें बच्चे और संघ राज्य क्षेत्र के प्रशासनिक कर्मचारी भाग लिए ।
  • निकोबार जिला में 15 अगस्त 2013 को स्थानीय युवाओं के लिए शरीर सौष्ठव प्रतियोगिता का आयोजन किया गया ।
  • बीट कर्मचारी द्वारा घर-घर मुवायना किया जाता है ।
  • सेवकों तथा परिचारकों के पूर्ववृत्त की जाँच ।
  • आम जनता के लिए सांस्कृतिक तथा संगीत कार्यक्रमों, खेल-कूद स्पर्धा का आयोजन।
  • आम जनता के मनांरंजन के लिए अण्डमान तथा निकोबार पुलिस द्वारा मरीना पार्क में नियमित रूप से बैण्ड बजाया जाता है ।
  • अण्डमान तथा निकोबार पुलिस के कार्यों की आम जनता को जानकारी देने के लिए पुलिस वेबसाईट पर नागरिक चार्टर प्रदर्षित किया हुआ है ।  
  • अण्डमान तथा निकोबार पुलिस के कार्यों की आम जनता को जानकारी देने के लिए पुलिस वेबसाईट पर नागरिक चार्टर प्रदर्शित किया हुआ है ।

समुदाय के साथ संबंध बढ़ाने का प्रयास 

  • स्वास्थ्य और मनोरंजन के लिए साइकिल चालन
  • कारनिक उत्सव
  • लाइसेंस मेला (एक ही स्थान पर वाहन चालन लाइसेंस जारी करना)
  • खेलकूद गतिविधियाँ आयोजित
  • शराबियों और नषीली दवाओं के लत व्यक्तियों का पुनर्वास
  • कार निकोबार में जनजातीय बच्चों को शैक्षिक सहायता
  • हेली दिवस मनाया गया ।
  • मिस्टर कार निकोबार प्रतियोगिता आयोजित

बुजुर्ग नागरिको की चिंता 

  • पुलिस थाना स्तर पर वरिष्ठ नागरिकों से बैठक ।
  • वृद्ध लोगों की सुरक्षा संबंधी समस्याओं को समझना ।
  • संपर्क/दूरभाष नम्बरों का आदान-प्रदान ।
  • बीट अधिकरियों को यह निर्देश दिया गया है कि प्रतिदिन गश्त के समय उस क्षेत्र के वरिष्ठ नागरिकों से संपर्क करें ।

अन्य पहल

  • ’’मादक पदार्थाें को न’’ अभियान ।
  • मरीना पार्क में बैण्ड बजाने का कार्यक्रम ।
  • पुलिस संग्रहालय ।
  • तटों की सफाई ।
  • पुलिस मनोरंजन दल द्वारा संगीत कार्यक्रम ।
  • रक्त दान शिविर
  • खेलकूद प्रतियोगिता में पुलिस द्वारा भाग लेना
  • मेधावी खिलाडियों की नियुक्ति
  • सहायक उप निरीक्षक देबोरह द्वारा ए.सी.सी ट्रैक एशिया कप साईक्लिंग चैम्पियनशिप, 2013 में दो स्वर्ण पदक प्राप्त किया गया ।

महिला सुरक्षा तथा बाल संरक्षण हेतु पहल

  • पुलिस थानों मंे महिला तथा चाईल्ड हेल्प डेस्क ।
  • पुलिस थानों में किशोर कल्याण अधिकारी पदनामित ।
  • पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय में विशेष प्रशिक्षण ।
  • महिला पुलिस कर्मियों को दिल्ली पुलिस के साथ प्रशिक्षण ।
  • विशेषीकृत गैर सरकारी संगठनों द्वारा सलाह सेवा ।
  • 150 से अधिक लड़कियों को आत्मरक्षा प्रशिक्षण ।
  • स्कूली बच्चों में यौन उत्पीड़न के प्रति जागरूकता पैदा करना । 
top