आरएपी क्या है

आर.ए.पी. से अभिप्राय प्रतिबंधित क्षेत्र परमिट है जो एक विदेशी नागरिक को अंडमान तथा निकोबार द्वीपसमूह के कुछ क्षेत्रों का दौरा करने का अधिकार प्रदान करता है । अण्डमान तथा निकोबार विदेशी ( प्रतिबंधित क्षेत्र) आदेश 1963, के अधीन सम्पूर्ण संघ राज्य क्षेत्र को प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित किया गया है । . 

आर.ए.पी. की सामान्य शर्त

  • पोर्ट ब्लेयर नगरपालिका क्षेत्र, हैवलॉक, लौंग आइलैंड, जनजातीय आरक्षित क्षेत्र (कांस्टेन्स बे से लुइस इनलेट तक 5 कि.मी. दूर - पष्चिमी तट जनजातीय आरक्षित क्षेत्र) को छोड़कर दक्षिण अंडमान तथा मध्य अंडमान का संपूर्ण क्षेत्र, बाराटांग, रंगत, मायाबंदर, डिगलीपुर, नार्थ पैसेज आइलैंड, जनजातीय आरक्षण क्षेत्र को छोडकर लिटिल अंडमान और बोट, होबडे ट्वींस आइलैंड, तारमुगली, मलय और प्लूटो आइलैंड को छोडकर महात्मा गाँधी मेरिन राश्ट्रीय पार्क के सभी द्वीप का दौरा तथा रात में ठहरने की अनुमति है। वे दिन के समय जॉली बॉय, साउथ सिंक आइलैंड, रेड स्किन, माउंट हेरियट, मधुबन, रॉस आइलैंड, नारकोंडम, इन्टरव्यू, ब्रदर, सिस्टर और बैरन द्वीप का दौरा कर सकते हैं (बैरन द्वीप मे तट पर उतरने की अनुमति नहीं है )
  • दो ज्वालामुखी द्वीप बैरन आइलैंड और नारकोंडम द्वीप के संबंध में विदेशी पर्यटकों को केवल बैरन द्वीप में जहाज में जाकर देखने की अनुमति है लेकिन तट पर उतरने की अनुमति नहीं है । इन द्वीपों का दौरा करने वाले पर्यटकों के लिए संघराज्य प्रशासन मार्गरक्षक प्रदान करेगा । नारकोंडम द्वीप में विदेशी पर्यटकों को गोताखोरी और अनुरक्षक-रहित दिन में दौरा करने की अनुमति देने का निर्णय किया गया है ।
  • गृह मंत्रालय की अनुमति के बिना बर्मी नागरिकों को मायाबंदर तथा डिगलीपुर दौरे की अनुमति नहीं होगी ।

नौका द्वारा आए पर्यटकों के लिए प्रतिबंधित क्षेत्र परमिट के लिए सामान्य शर्त

    • पोर्ट ब्लेयर नगरपालिका क्षेत्र, हैवलॉक, लौंग आइलैंड, जनजातीय आरक्षित क्षेत्र (कांस्टेन्स बे से लुइस इनलेट तक 5 कि.मी. दूर - पश्चिमी तट जनजातीय आरक्षित क्षेत्र) को छोड़कर दक्षिण अंडमान तथा मध्य अंडमान का संपूर्ण क्षेत्र, बाराटांग, रंगत, मायाबंदर, डिगलीपुर, नार्थ पैसेज आइलैंड, जनजातीय आरक्षण क्षेत्र को छोडकर लिटिल अंडमान और बोट, होबडे ट्वींस आइलैंड, तारमुगली, मलय और प्लूटो आइलैंड को छोडकर महात्मा गाँधी मेरिन राष्ट्रीय पार्क के सभी द्वीप का दौरा तथा रात रूकने की अनुमति है। वे दिन के समय जॉली बॉय, साउथ सिंक आइलैंड, रेड स्किन, माउंट हेरियट, मधुबन, रॉस आइलैंड, नारकोंडम, इन्टरव्यू, ब्रदर, सिस्टर और बैरन द्वीप का दौरा कर सकते हैं (बैरन द्वीप मे तट पर उतरने की अनुमति नहीं है )

    • विदेशी नागरिक का निम्नलिखित क्षेत्रों में जाना प्रतिबंधित हैः-
      • निकोबार द्वीपसमूह का सम्पूर्ण क्षेत्र
      • दक्षिण तथा मध्य अंडमान का जनजातीय आरक्षित क्षेत्र जिसका विस्तार कान्सटेंस बे से लुइस इन्लेट बे 920 34' 03” पूर्वी देशांतर और 110 39' 52” उत्तरी अक्षांश से 920 47' 02” पूर्वी देषांतर और 120 43' 02” उत्तरी अक्षांष और उच्च ज्वार में समुद्री तट से 05 कि.मी. तक ।
      • स्ट्रेट आइलैंड, हरमिन्दर बे तथा डुगांग क्रीक, लिटिल अंडमान के जनजाति आरक्षित क्षेत्र ।
      • महात्मा गांधी, मैरीन राष्ट्रीय पार्क के बोट, होबडे, ट्वीन आइलैंड, तारमुगली, मलय तथा प्लुटो द्वीप ।

    • निम्न शर्त पर परमिट वैध होगा :-
      • बर्मी नागरिकोंको गृह मंत्रालय की पूर्व अनुमति के बिना मायाबंदर और डिगलीपुर के दौरे की अनुमति नहीं होगी । विदेशी पर्यटकों को यह सुनिष्चित करना होगा कि इस क्षेत्र के दौरे के दौरान उनके जहाज में कोई बर्मी नागरिक नहीं है ।
      • श्रीलंकाई, बंगलादेश, पाकिस्तानी ईरानी, अफगानिस्तानी, सोमालियाई, नाइजिरियाई, इथोपियाई और अल्जेरियाई नागरिकों को प्रतिबंधित क्षेत्र परमिट जारी नहीं किए जाएंगे । विदेशी जहाजों को यह सुनिष्चित करना होगा कि इन देषों के नागरिक जहाज में सवार नहीं है।
      • पोर्ट ब्लेयर में आगमन/प्रस्थान के समय ही केवल आप्रवास अनापत्ति प्रदान किया जाएगा।
      • जहाजों को वी.एच.एफ.संचार के माध्यम से दिन में दो बार (प्रत्येक 12 घंटे में ) अपनी स्थिति की सूचना पत्तन प्रबंधन, बोर्ड के नियंत्रण कक्ष को देना होगा।
      • आगमन/प्रस्थान से पूर्व सीमा षुल्क और पत्तन प्रबंधन बोर्ड से अनापत्ति प्रमाणपत्र जरूरी है ।
      • सभी रक्षा स्थापना/क्षेत्र में प्रवेश निषेध है ।
    • प्रतिबंधित क्षेत्र परमिट के लिए कैसे आवेदन करें और प्राप्त करें
      • विदेशी (प्रतिबंधित) क्षेत्र आदेष, 1963 के तहत अंडमान तथा निकोबार द्वीपसमूह का सम्पूर्ण संघ राज्य क्षेत्र को प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित किया गया है ।
      • विदेशी पर्यटकों के इस द्वीप के हवाई अड्डा/बंदरगाह में आगमन पर विवरण भरने तथा अंडमान निकोबार पुलिस द्वारा वैध यात्रा दस्तावेजों की सामान्य जाँच के बाद अनापत्ति क्षेत्र परमिट जारी करने के लिए अण्डमान तथा निकोबार पुलिस द्वारा आप्रवास औपचारिकताएँ पूरी की जाती है ।
      • यह आवश्यक है कि हर एक विदेशी नागरिक के पास वैध पासपोर्ट और भारत का वैध विज़ा हो ।
      • प्रतिबंधित क्षेत्र परमिट निःशुल्क जारी की जाती है
      • विदेशी नागरिक के एक बार अंडमान तथा निकोबार द्वीप समूह दौरे पर आने पर अधिकतम 30 दिनों की अवधि तक यहाँ ठहर सकता है ।
      • विदेशी पंजीकरण अधिकारी, अंडमान तथा निकोबार द्वीपसमूह से अनुरोध किए जाने पर रूकने की अवधि को 15 दिनों के लिए बढ़ाया जा सकता है ।
      • विदेशी नागरिक अपनी अपेक्षित अवधि को बढ़ाए जाने के लिए कारण का उल्लेख करते हुए विदेशी पंजीकरण अधिकारी, अंडमान तथा निकोबार द्वीपसमूह, पोर्ट ब्लेयर को संबोधित कर पुलिस अधीक्षक (दक्षिण अंडमान जिला) कार्यालय की पहली मंजिल में स्थित मुख्य कार्यालय में इसे जमा कर सकते है । प्रतिबंधित क्षेत्र परमिट की अवधि बढाने फार्म आप्रवास तथा विदेशी शाखा और सभी पुलिस थानों में निःशुल्क उपलब्ध है । दूरभाष सं. 03192-239247,237793,(फैक्स) और 234472 एक्सटेंषन 358 और 374 है ।
    • किसी भी आपात स्थिति में, , क्षेत्र के संबंधित पुलिस थाना से संपर्क किया जा सकता है । दूरभाश सं. इस प्रकार है :-
क्रमांक पुलिस थाना/पुलिस नियंत्रण कक्ष संपर्क सं.
1. पुलिस नियंत्रण कक्ष (पोर्ट ब्लेयर क्षेत्र) 100
2. पुलिस थाना हैवलॉक 03192-282405
3. पुलिस चौकी नीलद्वीप 03192-282602
4. पुलिस थाना बाराटांग 03192-279503
5. पुलिस थाना कदमतला 03192-267005
6. पुलिस चौकी लौंग आइलैंड 03192-278611
7. पुलिस थाना रंगत 03192-274239
8. पुलिस चौकी बेटापुर 03192-270111
9. मायाबंदर 03192-273203
10. डिग्लीपुर 03192-272223

क्या करें और क्या न करें ।

क्या करें

  • विदेशी नागरिक आगमन के तुरन्त बाद आप्रवास प्राधिकारी से परमिट प्राप्त करना होगा ।
  • आगमन के बाद पासपोर्ट, वीजा जैसे वैध यात्रा दस्तावेज प्रस्तुत करने के बाद ही प्रतिबंधित क्षेत्र परमिट जारी किया जाएगा ।
  • इन द्वीप समूहों में केवल अनुमति दिए गए स्थल का ही दौरा करें ।
  • वाहन चलाते समय यातायात नियमों का पालन करें ।
  • बायीं ओर चले और वैध कागजात जैसे लाइसेंस, परमिट, पासपोर्ट आदि साथ रखें।

क्या न करें ।

  • विदेशी नागरिक बिना वैध परमिट के द्वीपसमूह में प्रवेश न करें ।
  • आरक्षित/जनजातीय क्षेत्र में प्रवेश न करें ।
  • जनजातीय आरक्षित क्षेत्र के भीतर या देशी जनजातियों के वीडियो, फिल्म या फोटोग्राफी न लें।
  • जनजातियों से बातचीत न करें ।
  • मत्स्य विभाग से विशेष अनुमति लिए बिना समुद्री फैन ओर समुद्री सीप हाथ में न रखें।
  • अनुमति के बिना राष्ट्रीय पार्क में प्रवेश न करें ।
  • विदेशी पंजीकरण अधिकारी के अनुमति के बिना किसी भी विदेशी को जहाज/बोट/नौका में चढने या रात को ठहरने की अनुमति नही है । उत्तर अण्डमान (रंगत और मायाबंदर) जाने वाली सरकारी फेरी का छोड़कर ।

आव्रजन संबंधित फॉर्म(यहां क्लिक करें)

संरक्षण आदिवासी जनजाति (पीएटी) विनियम (यहां क्लिक करें)

top
X

Right Click

No right click