Police Headquarter

परिचय

अण्डमान तथा निकोबार पुलिस की जमीन स्तर पर आपदा तैयारी और प्रबंधन प्रचालन के अनुवीक्षण हेतु पुलिस अधीक्षक (जिला) दक्षिण अंडमान कार्यालय परिसर में आपदा प्रबंधन प्रकोश्ठ कार्य कर रहा है ।

कार्यकलाप

आपदा प्रबंधन प्रकोश्ठ द्वारा अग्निशमन सेवा, पुलिस रेडियो संगठन, भारत आरक्षित वाहिनी, गृह रक्षक आदि सहित पुलिस के सभी सदस्यों और अन्य विभाग जैसे वन विभाग, अण्डमान लोक निमार्ण विभाग के कर्मचारियों को भी एक माह में दो बार “कोलाप्सड स्ट्रक्चर, सर्च रेस्क्यू”(सीएसएसआर) और ”मेडिकल फर्स्ट रिस्पोंस”(एमएफआर) पर निम्न उद्देष्य के साथ आपदा प्रबंधन का प्रशिक्षण दिया जाता है ।

  • ढह गए संरचना में प्रवेश करने हेतु मुख्य तकनीक, ढह गए संरचना से जीवित बचे पीड़ितों को बाहर निकाल कर उन्हें राहत पहुँचाने के बारे में प्राथमिक जानकारी प्रदान करना ।
  • पीड़ितों की देखभाल तथा उसके चोटों का इलाज करवाना तथा भय एवं अव्यवस्था में फँसे जीवन को बचाने हेतु आवश्यक जानकारी उपलब्ध करना ।

निम्नलिखित अधिकारियों को राष्ट्रीय औद्योगिक सुरक्षा अकादमी (निसा) केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल अकादमी, हैदराबाद से ’कोलाप्सड स्ट्रक्चर सर्च रेस्क्यू तथा मेडिकल फर्स्ट रिस्पोंस’ के क्षेत्र में आपदा प्रबंधन के लिए “टीओटी” में प्रशिक्षित किया गया है ।

  •  
निरीक्षक आर.के.सिंह(अग्निशमन सेवा) : 9474250050
  •  
उप निरीक्षक अब्दुल साजिद (भारत आरक्षित वाहिनी) : 9531852907
  •  
सहायक उप निरीक्षक एम.एस. मुरूगन (भारत आरक्षित वाहिनी) : 9476011385

प्रशिक्षित कर्मियों को विवरण

  •  
पुलिसकर्मी :
2211
  •  
अ.लो.नि.वि. के कर्मचारी :
72
  •  
वन विभाग के कर्मचारी :
102
  •  
गैर सरकारी संगठन (अकानी) :
177
  •  
कार्य बल :
16
  •  
स्कूली बच्चे :
1304
  •  
कुल योग :
3882

आपदा प्रबंध प्रकोश्ठ संघ राज्य क्षेत्र प्रशासन द्वारा प्रत्येक माह के 3 और 18 तारीख को 03 जिलों में नियमित संचार प्रणाली (आपदा चेतावनी सायरन) की जाँच करने के दौरान अण्डमान तथा निकोबार पुलिस के विभिन्न इकाईयों द्वारा चलाए जा रहे मोक ड्रिल तथा अण्डमान तथा निकोबार प्रशासन द्वारा अण्डमान तथा निकोबार द्वीपसमूह में दिनांक 20-22 नवम्बर, 2013 को राष्ट्रीय स्तर पर चलाए जा रहे मोक ड्रिल में सहयोग प्रदान कर रहा है ।

खोज, बचाव तथा कटिंग टूल्स/उपकरण का विवरण

top